दुःख अपनी वर्तमान अवस्था को सत्य मानने पर होता है।

क्योंकि में स्वयं को एक देह मानता हूं , जो अवस्थाओं के बदलने पर सुख और दुःख का अनुभव करता है ।।

Every suffering presupposes my current condition as real.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here