जो देख रहा (seer) उसके लिए दूसरों की मृत्यु एक दुखद घटना है । वह शोक प्रकट कर सकता है , दुखी परिवारजनों को सांत्वना दें सकता है और मृत शरीर का अन्तिम संस्कार कर सकता है ।

पर जब वह स्वयं मरेगा , तब यह सारे लोग जिन्हें वो जानता और देखता है वो भी उसके साथ ही पंचतत्व में लीन हो जायेंगे।

देखने वाले का कभी भी अन्तिम संस्कार नहीं होगा ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here